इस डिजिटल युग में किसी को रेल के ट्रैक पर लेटा हुआ देखकर ये भी नहीं समझ में आता है कि…!

1.
इस डिजिटल युग में किसी को रेल के ट्रैक पर लेटा हुआ देखकर ये भी नहीं समझ में आता है कि…!

वो सुसाइड कर रहा है या, व्हाट्सएप्प डी पि के लिये पोज दे रहा है…

2.
Intolerance की उचाई…

कहीं पुरानी प्रेमिका मिल जाये और
उसका बच्चा पूछे : “मम्मी ये कौन है” ?

प्रेमिका कहे : “बेटा, ये तुम्हारे मामाजी है, नमस्ते करो”…

3.
कहते हैं…
“आदमी को एक बार जहा धोखा मिले वहां कभी दोबारा नहीं जाना चाहिए”
पर क्या करें भाई…
“ससुराल तो जाना ही परेगा”…

4
.कहते हैं, “पति-परमेश्वर” होता है

“बॉयफ्रेंड को भी छोटा-मोटा “भैरो बाबा” माना जाना चाहिये”

चाणक्य का जीजा …

5.
बंटी ने गली के कोने में कचरा फेक दिया !

थोड़ी देर बाद वो घूम फिर कर गली में ही वापस आया,
तो मोहल्ले वाले आपस में लड़ने लगे कि, कचरा किसने फेका !

एक औरत ने गुस्से से कहा : “फेका होगा किसी कुत्ते के बच्चे ने” !

बंटी हंसा और बोला : “कचरा मैंने फेका और नाम कुत्ते के बच्चे का आ गया” !