किस-किस का नाम लें अपनी बरबादी में #Shayari

दिल है तो प्यार है, प्यार है तो ईश्क है,
ईश्क है तो महोब्बत है, महोब्बत है तो दर्द है,
दर्द है तो जंडु बाम है और
जंडु बाम है तो मुन्नी बदनाम है

ना वक्त इतना हैं कि सिलेबस पूरा किया जाए;
ना तरकीब कोई की एग्जाम पास किया जाए;
ना जाने कौन सा दर्द दिया है इस पढ़ाई ने;
ना रोया जाय और ना सोया जाए।

किस-किस का नाम लें अपनी बरबादी में,
बहुत लोग आये थे दुआएं देने शादी में।

दोस्ती बुरी हो तो होने उसे मत दो,
अगर हो गयी तो उसे खोने मत दो,
और अगर दोस्त हो सबसे प्यारा तो,
उसे चैन की नींद सोने मत दो।

आज तुम पे आँसुओं की बरसात होगी,
फिर वही कडकती काली रात होगी,
एस.एम.एस. न करके तूने जो दिल दुखाया मेरा,
जा तेरे बदन में खुजली सारी रात होगी।

काला न कहो मेरे महबूब को,
खुदा तो तिल ही बना रहा था,
स्याही का प्याला लुढ़क गया।