जिंदगी में कितनी बार पैर डगमगाऐ, कितनी बार गिरा भी !

1.
आर्मी ट्रेनिंग के दौरान ,
अफसर (सुरेश से) : “हाथ में ये क्या है” ?

सुरेश : सर, बन्दुक है !
अफसर : ये बन्दुक नहीं ! तुम्हारी इज़्ज़त है , शान है , ये तुम्हारी माँ है माँ…

अफसर ने दूसरे सिपाही रमेश से
अफसर : “ये हाथ में क्या है” ?

रमेश : सर, ये सुरेश की माँ है, उसकी इज़्ज़त है, उसकी शान है और हमारी मौसी है मौसी ..!

सर बेहोश…

2.

बबली : आज मेरा बर्थडे है। मेरा गिफ्ट कहां है ?

बंटी : वहां देखो, सड़क पर लाल रंग की कार दिख रही है ?

बबली खुशी के मारे उछल पड़ी…

बंटी : बस उसी रंग की नेलपॉलिश लाया हूं।

3.

शिक्षक : बताओ “इट” का ईस्तेमाल कब करते हैं ?

रमलू : जी, घर बनाते समय !

मास्टर नै इस्तीफा दे कर भट्ठा खोल लिया

4.

जिंदगी में कितनी बार पैर डगमगाऐ, कितनी बार गिरा भी !
पर कभी हिम्मत नहीं हारा !

अपने पैर पर खड़ा होता रहा और आवाज दी

“वैटर, एक पेग और”…

5.

शिष्य : “गुरूजी, ऐसी पत्नी को क्या कहते हैं जो गोरी हो, लंबी हो, सुन्दर हो, होशियार हो, पति को समझती हो, कभी झगड़ा नहीं करती हो …

गुरूजी : “उसे मन का वहम कहते हैं शिष्य”, मन का वहम !