दुश्मनों की महफ़िल में चल रही थी मेरे कत्ल की तैयारी #Shayari

नंबर एक 

दुश्मनों की महफ़िल में चल रही थी

मेरे कत्ल की तैयारी..

मैं पहुंचा तो बोलें यार

बहुत लम्बी उम्र हे तुम्हारी..!

नंबर दो 

वो छत पर चढे

पतंग उड़ाने के बहाने

बाजु वाली भी आई

कपड़े सुखाने के बहाने

बीवी ने देखा ये हसीन नजारा

वो डंडा ले आई, बन्दर भगाने के बहाने ।

नंबर तीन 

पलट दूँगा सारी दुनिया मैं ए खुदा !!

बस रजाई में से निकलने की ताकत दे दे..!!