मेरा हर दिन तेरी रात से अच्छा होगा, मेरा हर शेर तेरे जसबात से अच्छा होगा

ए दर्द  मुझे तेरा ही सहारा है
जख्मो  के सिवा  अब कौन हमारा है
लोग डरते है मौत के आ जाणे से
हमें  तोह  जिंदगी  ने ही मारा हे… !!!
———————–
दर्द जितना है मेरी निगाहो मे
पाओगे ना उतना किसी की राहो मे
बितानी चाहते थे ज़िंदगी जिसकी बाहो  मे
मौत भी  ना मिल पाई उनकी पनाहो मे…. !!!
———————–
महफ़िल मैं हसना तो हमारा मिज़ाज़ बन गया
तन्हाई मैं रोना एक राज़ बन गया
दिल के दर्द को चेहरे से ज़ाहिर ना होने दिया
यही ज़न्दगी जीने का अंदाज़ बन गया !!!
———————–
लोग हर मंज़िल को मुश्किल समझते है,
हम हर मुश्किल को मंज़िल समझते है.
बड़ा फ़र्क है लोग और हमारे नज़रिए में,
लोग दिल को दर्द और हम दर्द को दिल समझते है.. !!!
———————–
मेरा हर दिन तेरी रात से अच्छा होगा,
मेरा हर शेर तेरे जसबात से अच्छाहोगा,
इन्ही निगाओं से देखना ए बेवफा.
मेरा जनाज़ा तेरी बारात से अच्छा होगा !!!!
———————–