Emotional Shayari

क्या मालूम था के इश्क़ करके दिल तोड़ जाएगी,
दिल मे प्यार जगा के मूह मोड़ जाएगी,
ओ बेवफा तू जब भी किसी से दिल लगाएगी,
तो कभी भी चैन की साँसे नही ले पाएगी.

अपनी ज़िंदगी से कुछ पल दे दे मुझे,
आज ना सही तू अपना कल दे दे मुझे,
खुशी दे या ना दे मर्ज़ी तेरी,
अपना दुख और दर्द तू चल दे दे मुझे.

पास आकर दूर चले जाते हो,
हम अकेले हे और अकेले ही रह जाते हे.
दिल का दर्द कहे भी तो कैसे कहे,
हमारे अपने ही हमे ज़ख्म देके चले जातें हे.

वक़्त के मोड़ पे ये कैसा वक़्त आया है,
ज़ख़्म दिल का ज़ुबान पर आया है,
ना रोते थे कभी काटो की चुभन से,
पर आज ना जाने क्यों फूलों की खुश्बू से रोना आया है.

ज़िंदगी से वफ़ा हमने भी की हैं बहोत
पर गमों के सिवा और कुछ मिला भी तो नही,
एक तुझको पाकर बहुत खुश था मैं ,
पर साथ तेरा मंज़िल तक मिला भी तो नही

हर गम सहा तेरे प्यार के खातिर,
हर दीवार तोड़ी तेरे दीदार के खातिर,
हर उमीद मिटा दी तुम्हे पाने की खातिर,
और तुमने दिल तोड़ दिया ज़माने के खातिर.

निकलके उन्ही के दिल से हम महफ़िल मे आ बैठे हे,
हमारी मुश्किल ये हे की बड़ी मुश्किल मे आ गये हे,
लड़खड़ाने लगे हे पैर उनकी बेवफ़ाई की चोट से,
पर लोग कहेते हे पी के सारी महफ़िल मे आ गये हे.

क्या मजबूरी हे उनकी, जो हम से इतना दूर रहते है,
हम उनको बूहात चहाते है, पर वो हम से क्यो नही कहते है,
क्यो हम से इतना दूर-दूर रहते है ..

इश्कवाले आँखो से आँखो की बात समज़ लेते है,
सपने मे मिल जाए तो मुलाकात समज़ लेते है,
रोता तो आसमान भी है अपनी धरती के लिए,
और लोग उनके आंसु को बरसात समज़ लेते है.

इश्क़ का तेरी एक यही तो सिला हे,
याद तुझे करके मेरा दिल भी जला हे.
तेरी यादो को हम कैसे भुला दे,
सब कुछ हारकर एक यही तो मिला हे.