जानें बुलंद दरवाजा से जुड़े कुछ रोचक बातें

आज हम आपको जिस जगह के बारे बताने जा रहे है उसका नाम बुलंद दरवाज़ा जो भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में आगरा से 43 किमी दूर फ़तेहपुर सीकरी नामक स्थान पर स्थित एक दर्शनीय स्मारक है तो चलिए बताते है हम आपको इससे जूरी कुछ बाते|
बुलंद दरवाज़ा बथवा महान दरवाज़ा 17वीं सदी के आरंभ में सम्राट अकबर की गुजरात पर जीत के स्मारक के रूप में बनवाया गया था| स्मारक विश्व का सबसे बडा़ प्रवेशद्वार है, यह विशाल पत्थर की संरचना पारंपरिक पारसी-मुगल डिज़ाइनों से प्रभावित है| बुलंद दरवाज़ा लाल बलुआ पत्थर से निर्मित है जिसके अंदरूनी हिस्सों में सफेद और काले संगमरमर की नक्काशी है|

उत्तर प्रदेश की सर्वोच्च इमारत बुलंद दरवाज़ा है, जिसकी ऊंचाई भूमि से 280 फुट है| यहाँ पर हजारो लोग इस ईमारत को देखने आते है, दरवाज़े में पुराने जमाने के विशाल किवाड़ ज्यों के त्यों लगे हुए है| दरवाजे़ के तोरण पर ईसा मसीह से संबंधित कुछ पंक्तियाँ लिखी है| 1571 से 1585 तक  फ़तेहपुर सीकरी मुग़ल साम्राज्य की राजधानी थी | बुलंद दरवाज़े से होकर शेख की दरगाह में प्रवेश करना परता है| बुलंद  दरवाजे के आगे और स्‍तंभों पर कुरान की आयतें खुदी हुई है यह दरवाजा एक बड़े आँगन और जामा मस्जिद की ओर खुलता है|