जानें कन्याकुमारी मदिर से जुडी कुछ रोचक बातें

हम आज आपको भारत की एक बहुत ही खुबसूरत जगह के बारे में बताने जा रहे है जिसका चर्चा पूरी दुनिया भर में होता है जो खुद में ही अद्भूत है जिसे देखने के लिए लोग देश-विदेश से आते है। तो चलिए हम उस जगह के बारे में आपको बताते है आपको बता दे की आज जिस जगह की बात हम करेंगे उसका नाम कन्याकुमारी जिसे कन्याकुमारी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।
कन्या कुमारी तमिलनाडु प्रान्त के सुदूर दक्षिण तट पर बसा एक शहर है। इस शहर को यह नाम इस क्षेत्र में देवी कन्या कुमारी मंदिर (Kanyakumari Temple) से दिया गया है। यह हिन्द महासागर, बंगाल की खाड़ी तथा अरब सागर का संगम स्थल है, जहां भिन्न सागर अपने विभिन्न रंगो से इस जगह हो पवित्र करती है। यह प्रायद्वीपीय भारत का सबसे बड़ा दक्षिणी द्वीप है।

समुद्र के विशाल लहरों के बीच यहां का सूर्योदय और सूर्यास्त का नजारा बेहद आकर्षक लगता हैं। समुद्र बीच पर फैले रंग बिरंगी रेत इसकी सुंदरता को और बढ़ा देते है यहाँ हजारो की संख्या में लोग घुमने के लिए आते है। सागर के मुहाने के दाई और स्थित यह एक छोटा सा मंदिर है जो पार्वती माँ को समर्पित है। ये मंदिर तीनों समुद्रों के संगम स्थल पर बना हुआ है।

यहां सागर की लहरों की आवाज काफी सुरीली सुनाई परती है। कन्याकुमारी मंदिर एक शक्तिपीठ है, जो माता देवी के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक है। कन्याकुमारी मंदिर को भगवती अम्मन मंदिर भी कहा जाता है, हिंदू पौराणिक कथाओं में 108 शक्ति पिठों में से एक है। कन्याकुमारी तीन सागरों का संगम का शहर है और एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है।