Love Shayari

इश्क़ छुपता है छुपाने से कहाँ,
यह खुद बे खुद सामने आता है,
नही बचता इस से कोई भी कभी,
यह सब को ही बड़ा तड़पता है

जुनून ए इश्क़, नही रास आया हमें,
जब भी देखा आईना,
अक्स उनका ही नज़र आया हमें,
तड़पते दिल के ब्यान करें कैसे ?
जब भी कुरेड़ा घाव को, दर्द उनका ही उभर आया .

इतना प्यार ना कर के इश्क़ भी,
रो पड़ेगा तेरी वफ़ा देख कर,
तुम मिलो ना मिलो पर,
रब ज़रूर जल उठेगा,
तुम्हारा जुनून देख कर .

तेरे साथ इतने बहुत से दिन,
तो पलक झपकते गुजर गये,
हुई शाम खेल ही खेल में,
गयी रात बात ही बात में,
कोई इश्क़ है के अकेला,
रेत जी शाल ओढ़ के चल दिया,

यह रोग इश्क़ का बहुत बुरा है दोस्तो,
आप इस रोग से खुद को बचा लेना,
अगर हँसी कोई नज़रें मिलना भी चहाए,
तो आप नज़रों को अपनी हटा लेना

तेरे इश्क़ में सब कुछ लूटा बैठा,
मैं तो ज़िंदगी भी अपनी गँवा बैठा,
अब जीने की तमन्ना ना रही बाकी,
सारे अरमान मैं अपने दफ़ना बैठा

इश्क़ ऐसा करो की धड़कन मे बस जाए,
साँस भी लो तो खुश्बू उसी की आए,
प्यार का नशा आँखों पे छा जाए,
बात कुछ भी ना हो पर नाम उसी का आए ।

आँखो मे आँसू से आ जाते हे,
फिर भी लबो पर हसी रखनी पड़ती हे,
ये इश्क़ भी क्या चीज़ हे दोस्तो,
जिसे इश्क़ करते हे उसी से हे छुपानी पड़ती हे.

इश्क़ करते हो जिनको उसको आज़ाद करदो,
इश्क़ को तोलने का तरज़ू नही हे,
इश्क़ का मारा आशिक़ खिछा चला आएगा,
अगर नही आया तो समजना के वो किसी और का हे.

हर शख्स से उलफत का इक़रार नही होता…!!
हर चेहरे से दिल को कभी प्यार नही होता…!!
जो रूह को छ्छू जाए, जो दिल मे उतार जाए…!!
उस इश्क़ का लफ़्ज़ों में इज़हार नही होता…

एहसास के दामन मे कभी आँसू गिरा के देखो,
इश्क़ कितना सच्चा हे कभी आज़मा कर देखो.
मोहब्बत को भूल कर क्या होगी दिल की हालत,
कभी कोई आईने को ज़मीन पर गिरा कर देखो.