Shero Shayari

क्या मिटाएँगे हमे मिटाने वाले
राह भटके यहाँ राह दिखाने वाले
औरों का घर जलाने गये थे वो
आशियाँ अपना जला बैठे घर जलाने वाले.

दीवानगी हमारी हर राज़ खोल देती है
खामोशी हमारी हर बात बोल देती है
लेकिन शिकायत है तो सिर्फ़ इस दुनिया से
जो दिल के जज़्बात भी पैसों से तोल देती है.

रिश्ते काँच के बने होते हैं
टूटने पर चुभते हैं,
हथेली पर संभाल कर रखना इन्हे
क्योकि इनके टूटने मे पल
और जुड़ने मे बरसों लगते हैं.
बेकसूर हूँ मैं

बिना ख्वाबों के भी कोई सो पाया है,
बिना यादों के भी कोई खो पाया है,
आप तो हमारी धड़कन हैं,
क्या दिल धड़कन से जुदा हो पाया है.

सज़ा ना दे मुझको बेकसूर हूँ मैं,
थाम ले मुझको गमों से चूर हूँ मैं,
तेरी दूरी ने कर दिया पागल सा मुझे,
और लोग कहते हैं दीवाना हूँ मैं.

यह सच है दोस्तों किसी से प्यार न करना,
कभी किसी का ऐतबार ना करना ,
थाम के खंजर अपने ही हाथों में,
बेदर्दी से अपने दिल पर वार ना करना

मिस्स्ड कॉल तो एक बहाना है,
इरादा तो आपका एक लम्हा चुराना है,
आप चाहे हमसे बात करो या न करो,
आप की यादों में हमारा आना जाना है.

जिसने हमको चाहा, उसे हम चाह न सके,
जिसको चाहा उसे हम पा न सके,
यह समझ लो दिल टूटने का खेल है,
किसी का तोडा और अपना बचा न सके

कभी किसी से जिक्र-ए-जुदाई मत करना..
इस दिल से कभी रुसवाई मत करना..
जब दिल उठ जाये हमसे तो बता देना..
ना बता कर बेवफाई मत करना .

हर शाम से तेरा इज़हार किया करते है,
हर ख्वाब में तेरा दीदार किया करते है,
दीवाने ही तो है हम तेरे,
जो हर वक़्त तेरे मिलने का इंतज़ार किया करते है.