जिंदगी हे सफर का सील सिला, कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया

1.जिंदगी हे सफर का सील सिला, कोइ मिल गया कोइ बिछड़ गया, जिन्हे माँगा था दिन रत दुआ ओमे, वो बिना मांगे किसी और को मिल गया. 2.मोहब्बत का नतीजा, …

Read More